कोटा - एक सैनिक ने अपने माता पिता के शव की तलाश में ढाई साल पहले छोड़ी नौकरी, लेकिन आज तक शव का पता नही लगा सकी पुलिस - News Desktops

Breaking

Friday, August 7, 2020

कोटा - एक सैनिक ने अपने माता पिता के शव की तलाश में ढाई साल पहले छोड़ी नौकरी, लेकिन आज तक शव का पता नही लगा सकी पुलिस






इस कलयुग में एक श्रवण कुमार जैसे बेटे ने अपने माता-पिता की निर्मम हत्या करने वाले अपराधियों को पकड़ने के लिये छोड़ी भारतीय थल सैना में सूबेदार की नौकरी। 

कोटा क्षेत्र के रहने वाले है सूबेदार विजय बडगुजर।

कोटा। करीब 25 सालों से देश की सीमा पर रक्षा में जुटे कोटा के सूबेदार विजय बडगुजर के माता-पिता की हत्या को लगभग ढाई साल हो गए हैं। लेकिन पुलिस आज तक सूबेदार के माता-पिता के ना तो शव की तलाश कर पाई और हत्यारों को पकड़ने में भी नाकाम रही।

क्या है मामला

जनवरी 2018 में कोटा निवासी हजारीलाल ओर उनकी पत्नी कैलाशी बाई का अज्ञात लोगो ने पहले कोटा से अपहरण किया ओर फिर बदमाशों ने करौली जिले के जंगलो में ले जाकर निर्मम हत्या कर दी और मौके से फरार हो गए। पुलिस ने हत्या की गुत्थी को सुलझाते हुए पति पत्नी सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया था. मौके पर मृतकों के खून से सने कपड़े तो पुलिस को मिल गए थे, लेकिन उनके शवों को पुलिस आज तक तलाश नहीं कर पाई है.



अब सैनिक बेटा बीते ढाई साल से आईज़ी, डीआइजी, एसपी, सरकार, गृहमंत्री से लेकर सीएम तक गुहार लगा चुका है, लेकिन उसके माता-पिता का शव अब तक पुलिस बरामद नहीं कर पाई है. सैनिक की गुहार अब आंदोलन का रूप ले रही है कुछ महीने पहले जिला कलेक्टर्स को ज्ञापन सौंपा जिसमे माता-पिता के शवों की बरामदगी के लिए नए सिरे जांच करवाने की मांग की है.

सूबेदार विजय बडगुर्जर खुद अपने माता-पिता की मौत के बाद टूट गया है. अब सिर्फ उनकी यही गुहार है कि वो अपने माता-पिता का अंमित संस्कार करके अपने पुत्र होने का फर्ज निभा सके, लेकिन उनकी यह कौशिश भी अब तक नाकाम रही है क्योंकि अभी तक काफी तलाश अभियान चलाने के बाद भी मृतकों के शवों की तलाश पूरी नहीं हो सकी है. 



 सैनिक ने लगाया राजघराना न्यूज़ पर धोखाधड़ी का आरोप 

इसी बीच सोशल मीडिया पर चलने वाले राजघराना न्यूज़ चेनल के निर्माता मुकेश फौजदार से सूबेदार विजय बडगुजर का संपर्क हुआ तो सैनिक ने अपनी आप बीती सुनाई। इसके बाद मुकेश ने सैनिक को भरतपुर बुलाया और मायावती से, डीज़ी साहब से मिलाने का आश्वाशन दिया और उनके माता-पिता का शव खोजने में मदद करने की बात भी कही। लेकिन सूबेदार ने मुकेश फौजदार पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया है। सूबेदार ने गुमराह करने, धोकधडी से पैसे हड़पने, भावनाओ से खिलवाड़ करने का आरोप भी लगाया है। 

No comments:

Post a Comment