बयाना - बैंक से रुपए निकाल जूते खरीद रहे रिटायर्ड फौजी की बाइक से 1.50 लाख रुपए हुए पार - News Desktops

Breaking

Thursday, July 30, 2020

बयाना - बैंक से रुपए निकाल जूते खरीद रहे रिटायर्ड फौजी की बाइक से 1.50 लाख रुपए हुए पार



बयाना। कस्बे के आर्य समाज रोड स्थित एसबीआई बैंक से रुपए निकाल कर दुकान पर जूते खरीदने के दौरान रुदावल थाना क्षेत्र के गांव नगला ठिकरिया निवासी पिता-पुत्र की बाइक के थैले से सोमवार दोपहर भरे बाजार बदमाश डेढ़ लाख की नकदी पार कर ले गए।

बाइक के थैले से रुपयों को गायब देख दोनों पिता-पुत्र भागे-भागे पहले बैंक व फिर पुलिस थाने पहुंचे तथा घटना की सूचना दी। सूचना पर पुलिस ने बैंक व दुकान पर जाकर पूछताछ की लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। पीडित के पुत्र ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया है। अंदेशा जताया जा रहा है कि बदमाश बैंक से ही पिता-पुत्र के पीछे लग गए थे। बदमाशों ने रैकी कर उन्हें बाइक के थैले में नकदी रखते हुए देख लिया था।

रुदावल थाना क्षेत्र के गांव नगला ठिकरिया निवासी मोहन सिंह ने बताया कि उसके पिता श्रीराम सिंह गुर्जर आर्मी से रिटायर्ड हैं तथा उनके बयाना में एसबीआई बैंक शाखा में एक पेंशन खाता व दूसरा बचत खाता है जो उसके पिता व मां के संयुक्त नाम से है। पिता श्रीराम को अपने पेंशन खाते से दो लाख की राशि निकाल कर अपने संयुक्त बचत खाते में डलवानी थी।

इसके लिए मोहन सिंह व उसका पिता सोमवार सुबह 11 बजे गांव से बैंक पहुंचे तथा पहले पिता के पेंशन खाते से दो लाख रुपए निकाले। लेकिन जब बचत खाते में उस राशि को डालने लगे तो बैंककर्मी ने बताया कि एक दिन में केवल अधिकतम 49 हजार रुपए ही डाल सकते हैं।

इस पर उन्होंने दो लाख में से 49 हजार रुपए बचत खाते में डाल दिए तथा एक हजार रुपए खरीददारी के लिए अलग से जेब में रख लिए। शेष डेढ़ लाख रुपयों की 500-500 की तीन गड्डियों व दोनों पासबुकों को अपने पास मौजूद पॉलिथीन में रखकर बाइक के थैले में डालकर चैन लगा ली।

दुकान में आया था एक संदिग्ध युवक
पीडि़त मोहन सिंह ने बताया कि जब वे दुकान में जूते देख रहे थे तभी दुकान में एक संदिग्ध युवक घुसा था। जिसने अपने मुंह को कपड़े से पूरी तरह से ढक रखा था। दुकानदार ने उससे पूछा भी था कि क्या उसे जूते खरीदने हैं लेकिन युवक ने कोई जबाव नहीं दिया तथा एक-डेढ मिनट रुकने के बाद दुकान से बाहर चला गया।

पीडि़त को संदेह है कि उक्त युवक बदमाश गैंग का हो सकता है क्योंकि जब वह दुकान में आया तो वह पिता-पुत्र के सामने इस तरह से खड़ा हुआ था कि वे बाहर बाइक की तरफ नहीं देख सकें। पीडित को अंदेशा है कि जब वह युवक उनके पास खड़ा था उसी दौरान बाहर खड़े उसके साथी ने बाइक से नकदी भरी पॉलिथीन निकाल ली।

No comments:

Post a Comment