पहाड़ी - हरियाणा बॉर्डर पर नहीं था एक भी पुलिसकर्मी, कैबीनेट मंत्री ने कलक्टर को फोन पर कहा...क्या यही है सिस्टम - News Desktops

Breaking

Sunday, April 5, 2020

पहाड़ी - हरियाणा बॉर्डर पर नहीं था एक भी पुलिसकर्मी, कैबीनेट मंत्री ने कलक्टर को फोन पर कहा...क्या यही है सिस्टम



कामां/पहाड़ी/जुरहरा। मेवात में बढ़ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या के बाद कैबीनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह शनिवार को वहां व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे। नौनेरा स्थित हरियाणा बॉर्डर पर पहुंचे तो वहां लोग आसानी से आ जा रहे थे। एक भी पुलिसकर्मी मौके पर मौजूद नहीं था। इससे नाराज मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने जिला कलक्टर, एसपी को फोन कहा कि क्या यही है व्यवस्था। उन्होंने कहा कि जब अधिकारी कह रहे हैं कि सीमा सील हो चुकी हैं तो यहां क्या मजाक हो रहा है। उनका यह दौरा गोपनीय रहा। इसका पता चलते ही प्रशासन में हड़कंप मचh गया। ज्ञात रहे कि राजस्थान पत्रिका की ओर से मेवात में प्रशासनिक व सीमा सील प्रकरण को लेकर लापरवाही का मामला पिछले तीन दिन से लगातारएच उजागर किया जा रहा है। हरियाणा में उत्तर प्रदेश बॉर्डर का निरीक्षण कर निरीक्षण के दौरान विश्वेंद्र सिंह ने बताया कि मेवात में कोरोना वायरस का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। लोगों से जानकारी के अनुसार पता पता चला है कि कामां का पुलिस व प्रशासन कोरोना को लेकर गंभीर नहीं है एसडीएम भी गंभीरता से नहीं ले रहे हैं ग्रामीणों ने बताया कि पिछले 10 दिन से लगातार गांव में जमातियों की सूचनाएं प्रशासन को दी जा रही है लेकिन प्रशासन ने उन्हें पकडऩा तो दूर उनकी स्क्रीनिंग तक नहीं कराई जिसका परिणाम यह हुआ कि मेवात क्षेत्र में कोरोना के पॉजिटिव मरीज देखने को मिल रहे हैं। उन्होंने कह कि इस प्रकरण में मुख्यमंत्री से भी बात की जा रही है। जुरहरा के बार्डर पर ड्यूटी पर मुस्तैद मिले, जबकि नौनेरा में ड्यूटी से गायब थे। कस्बे के बस स्टैण्ड पर लोगों ने स्थिति से अवगत कराया। बताया कि दोपहर में लोगों की भीड़ रहती है। मंत्री ने इस सम्बन्ध में अधिकारियों को फोन किया। अमरूका चौराहे पहुंचने के बाद पुलिस अधिकारियों को फटकार लगाई है। वह कुछ देर सतबाड़ी रुकने के बाद पहाड़ी पहुंचे, जहां उन्होंने स्थिति देखी। उन्होंने मुख्यमंत्री से दूरभाष पर वार्ता की।

No comments:

Post a Comment