भरतपुर - कोरोना वायरस से बचाव के लिए बच्चो ने लिया मास्क का सहारा - News Desktops

Breaking

Friday, March 6, 2020

भरतपुर - कोरोना वायरस से बचाव के लिए बच्चो ने लिया मास्क का सहारा

www.aapnobharatpur.com



भरतपुर। कोरोना वायरस की दहशत यहां भी देखी जा सकती है। हालांकि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग व्यवस्थाओं को लेकर मुस्तैद है और इसके वायरस से ग्रसित मरीज भी नहीं मिले हैं। लेकिन लोगों में दशहत है। बच्चे जहां मास्क लगाकर देखे जा सकते हैं, वहीं अस्पतालों में मरीजों का उपचार करते चिकित्सक भी मास्क लगाए नजर आएंगे। वहीं इस स्थिति में बाजार में मास्क अब दोगुने भाव में मिल रहा है।
इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन निरंतर मॉनिटरिंग कर रहा है। वहीं आरबीएम अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड को विशेष तौर पर कोरोना से पीडि़त आने वाले मरीजों के लिए व्यवस्थित कर दिया है। अस्पताल प्रशासन ने भविष्य में संक्रमण की आशंका को देखते हुए फिलहाल 100 पीपी (पर्सनल प्रोटेक्शन इक्प्यूमेंट) किट और 100 एन-95 मास्क व 150 पीस बीटीएम (वायरस ट्रांसपोर्ट मीटेड) उपलब्ध है। वहीं एक-एक हजार पीस की डिमांड निदेशालय को भेज दी है।
अस्पताल में उपलब्ध बचाव के संसाधन कम हैं और बाजार में भी कम उपलब्ध हो रहे हैं। इसलिए लगभग 70 रुपए का मास्क बाजार में करीब 150 रुपए में मिल रहा है। वहीं संक्रमित रोगी के लिए बाजार में किट उपलब्ध नहीं हैं। वहीं अस्पताल में भी 100 किट हैं। ऐसे में लोग दशहत में हैं। जरा सी छींक और खांसी पर भी लोग रोग का संदेह करने लगे हैं। यह नई बीमारी है जो चीन में फैल रही है। इससे संक्रमण का खतरा है, क्योंकि यह एक फ्लू की तरह है। इसमें खांसी-जुकाम, बुखार, सांस लेने में दिक्कत आती है। इस स्थिति में मरीज के अस्पताल पहुंचने पर आईसोलेशन वार्ड में भी व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं हैं।
वार्ड में गत माह 23 से 25 फरवरी तक ब्रजनगर कॉलोनी निवासी एक युवक कोरोना के संक्रमण को लेकर भर्ती हुआ था। हालांकि, तीन दिन भर्ती के बाद जांच रिपोर्ट में नेगेटिव आने पर उसे छुट्टी दे दी गई थी। यह युवक चीन में चिकित्सकीय पढ़ाई करने गया था, वहां से आया तो जुकाम होने पर जांच कराई और भर्ती हुआ। जांच रिपोर्ट में सब सामान्य आने पर छुट्टी दे दी गई।
चिकित्सकों की मानें तो हल्का बुखार, खांसी-जुकाम, सांस लेने में दिक्कत आदि कोरोना के लक्षण हैं। अगर कोई व्यक्ति छींकता है तो मुंह ढके और साबुन से हाथ धोए और इस लक्षणों के व्यक्तियों से दूरी बनाए रखे। वहीं चिकित्सकों से संपर्क कर उपचार लें। इनका कहना है कि मौसम में सर्दी होने से इसका संक्रमण फैलता है। लेकिन तापमान में वृद्धि से वायरस खत्म होने की संभावना बताई जा रही है। यह वायरस बच्चों और वृद्धजनों पर जल्दी असर करता है क्योंकि बच्चों और बुजुर्गों में रोग प्रतिरोधकर क्षमता कम होती है। 
सीएमएचओ डॉ. कप्तानसिंह का कहना है कि कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग मुस्तैद है। पूरी मॉनिटरिंग की जा रही है। अस्पताल में भी व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं। मास्क व किट के लिए निदेशालय को और डिमांड भेज दी है।

No comments:

Post a Comment