बयाना में नीम हकीम डाॅक्टरों के खिलाफ चिकित्सा विभाग की लम्बे अरसे बाद कार्यवाही से मचा हड़कंप - News Desktops

Breaking

Friday, January 10, 2020

बयाना में नीम हकीम डाॅक्टरों के खिलाफ चिकित्सा विभाग की लम्बे अरसे बाद कार्यवाही से मचा हड़कंप



बयाना। जिला प्रशासन व विभागीय उच्चाधिकारीयों के निर्देशों के बाद हरकत में आए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग व पुलिस टीम ने बयाना कस्बा सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी झोलाछाप डाॅक्टरों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाही की। 
जिससे कस्बे के गली मौहल्लों व बाजारों सहित गांवों में अपनी दुकानें जमाकर मानव जीवन के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड कर रहे झोलाछाप डाॅक्टरों में खलबली मच गई थी और कार्रवाही की भनक लगते ही ज्यादातर झोलाछाप अपनी अपनी दुकानों को बंद कर भाग खडे हुए।
इधर कस्बे सहित गांवों में भी अवैध रूप से बिना लाईसेंस के चल रही लैबोट्रीयों व दवाई की दुकानों के विरूद्ध अभी तक कोई कार्रवाही नही होने से उनके हौंसले बुलंद है और लोगों में तरह तरह की चर्चाऐं है। 
यहां के खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ.भरतमीणा के नेतृत्व में की गई कार्रवाही के दौरान कस्बे के गांधीचैक व कुण्डा तिराहे के पास क्लिनिक खोले बैठे झोलाछाप डाॅक्टरों के यहां जांच की कार्रवाही की गई। 
जांच के दौरान वह बिना लाइसेंस व बिना डिग्री के मरीजो का इलाज करते पाए गए।
इसी प्रकार निकटवर्ती गांव ब्रम्हबाद में तो बिना किसी लाइसेंस व बिना परमिशन के ही आर के हाॅस्पीटल के नाम से पूरा अस्पताल ही चलता पाया गया जिसमें बकायदा मरीजों को भर्ती करने के लिए करीब आधा दर्जन बैड व जांच उपकरण मशीने, दवाऐं पर्चे आदि भी मिले ओपीडी भी बनी हुई थी।
किन्तु वहां कोई डाॅक्टर या कर्मचारी आदि नही मिला जो कार्रवाही की भनक पाकर भाग खडे हुए थे। 
खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी के अनुसार ऐसी जानकारी मिली है कि यह निजी अस्पताल बिना लाईसेंस के अवैध रूप से लंबे अरसे से चल रहा था। जिसकी अब जांच कार्रवाही शुरू की गई है। 
इस दौरान लोगों ने शिकायत कर बताया कि बयाना कस्बा सहित गाँवो में भी अवैध रूप से क्लिनिक खोलकर बैठे झोलाछाप डॉक्टरों की ओर से महिलाओं के गर्भपात कराने व निस्संतान दम्पत्तियो के इलाज के नाम पर भी उनके जीवन से खिलवाड़ कर उनसे मोटी रकम ऐठी जाती है।
इस दिन यहां के भीमनगर व कस्बे के बजरिया मार्केट ,सूपा मार्केट,सहित बाजारों में भी बिना लाईसेंस के मरीजों का उपचार करने वाले झोलाछाप डाॅक्टरों व फर्जी डेंटिस्ट के विरूद्ध कार्रवाही की गई थी। 
किन्तु कार्रवाही से पहले ही यह लोग अपनी अपनी दुकानें बंद कर भाग गए थे। 
यह अभियान अभी जारी रहेगा तथा पकडे गए सभी झोलाछाप डाॅक्टरों व ब्रम्हबाद में अवैध रूप से निजी अस्पताल चलाने वाले संचालक के विरूद्ध मरीजों से धोखाधड़ी कर मानवजीवन से खिलवाड़ करने सहित विभिन्न धाराओं के तहत पुलिस में मुकदमें दर्ज कराए जाऐंगे।

No comments:

Post a Comment