भरतपुर - सरकार की जनसंख्या नियंत्रण की योजना पर भरतपुर में पुती कालीख - News Desktops

Breaking

Thursday, January 9, 2020

भरतपुर - सरकार की जनसंख्या नियंत्रण की योजना पर भरतपुर में पुती कालीख



भरतपुर। सरकार जनसंख्या रोकने के लिए नई योजना बना रही है उस के तहत सरकार नसबंदी के लिए लोगों को जागरूक कर रही जगह जगह शिविर लगाए जा रहे है। 
ताकि हमारे देश की बढ़ती जनसंख्या पर रोक लग सके। लेकिन आज भरतपुर के जनाना अस्पताल खुलेआम नियमों की धज्जियां उड़ती देखी जा सकती है। 
जनाना अस्पताल में नसबंदी के लिए जिले दूरदराज गाँव से आई महिलाओं को बिना नसबंदी का ऑपरेशन करवाये अपने घर जाना पड़ा। 
क्योंकि अस्पताल में नसबंदी का ऑपरेशन करने वाला डॉक्टर्स छुट्टी पर था। 
वही महिलाओं को ऑपरेशन पर लाने वाली ANM ने बताया कि उनको महिलाओं की नसबंदी करवाने के लिए टारगेट दिया जाता है। 
जिसकी वजह से वे ग्रामीण महिलाओं को बड़ी समझाइश के बाद नसबंदी करवाने के लिए राजी करती है और जनाना अस्पताल लेकर आती है। 
लेकिन यहाँ डॉक्टर्स नही मिलते अगर डॉक्टर्स मिल भी जाते है तो उनको घंटो तक डॉक्टर्स का इंतजार करना पड़ता है।
जिसकी वजह से ज्यादातर महिलाएं अपने घर चली जाती है। 
और टारगेट पूरा नही होने की स्तिथि में ANM की तनख्वाह रोक ली जाती है। 
वही नसबंदी करवाने आई महिला ने बताया कि अपने छोटे छोटे बच्चों को घर पर छोड़ पर ऑपरेशन करवाने आई है लेकिन यहाँ डॉक्टर्स न होने कारण उनको बिना ऑपरेशन करवाये बापस अपने घर जाना पड़ रहा है। 
अब वे शायद दुबारा ऑपरेशन के लिए अस्पताल न सके। 
इस बारे में जब डिप्टी CMHO असित श्रीवास्तव से बात की तो उन्होंने बताया कि उन्होंने 05 डॉक्टर्स को नसबंदी करने की ट्रेनिंग दिलाई हुई है। 
लेकिन वे डॉक्टर्स नसबंदी करने से साफ मना कर देते है और कहते है कि अगर मरीज को कुछ होता है तो उनकी जिम्मेदारी होगी आज भी नसबंदी के लिए लाने वाली ANM ने जब इसकी शिकायत असित श्रीवास्तव से की तो उन्होंने जनाना अस्पताल की HOD मोहिनी वालिया से बात की तुरंत डॉक्टर्स उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। लेकिन उसके बावजूद कोई भी डॉक्टर नसबंदी का ऑपरेशन के लिए वहाँ नही पहुँचा। 
जिसके बाद डिप्टी CMHO का कहना है कि इस मामले की जांच होगी और उच्च अधिकारियों को भी इस घटना को लेकर बताया जाएगा।

No comments:

Post a Comment