पहाड़ी - ज़ाहिद को आतंकियों ने मारी गोली, गांव में छाया शोक का माहौल - News Desktops

Breaking

Saturday, October 26, 2019

पहाड़ी - ज़ाहिद को आतंकियों ने मारी गोली, गांव में छाया शोक का माहौल



पहाड़ी।राकिब खान। गोपालगढ़ थाना क्षेत्र के गांव पापड़ा का निवासी ज़ाहिद ट्रक लेकर जम्मू कश्मीर दूध की सप्लाई करने गया था। जहां पर आतंकियों ने ज़ाहिद की गोली मारकर हत्या कर दी। ज़ाहिद पुत्र रज़्ज़ाक के शव को प्रशासन द्वारा दिल्ली लाया गया। दिल्ली एयरपोर्ट से देर रात्रि को चालक के साथ शव को किशनगढ़ ले गए थे जहां से तहसीलदार रामकुमार कंजर शव लेकर पहाड़ी पहुंचे। देर शाम ग्रामीण लोगों ने उपखंड अधिकारी जगदीश आर्य को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम पर ज्ञापन देकर मृतक के परिवारजनों को शहीद का दर्जा देने की मांग की गई। जिसको लेकर ग्रामीण लोग ने शव को लेने से इंकार कर दिया।


आज शनिवार सुबह जैसे ही ग्रामीण लोग इकट्ठा हुए तो तहसीलदार,नायब,गोपालगढ़ थाना अधिकारी व सीओ साहब मौके पर पहुंचे और राज्य सरकार अधिनियम के तहत मांगे पूरी करने का आश्वासन देते हुए शव का अंतिम संस्कार करने की ग्रामीणों से समझाइश करने लगे। जहां ग्रामीणों ने अपनी माँगो को रखते हुए शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया। मामले को देख कामां विधायक जाहिदा खान जयपुर से गांव पापड़ा के लिए रवाना हुई और पापड़ा पहुंचकर ग्रामीणों से समझाइश कर मामले में समझौता बनाया। ग्रामीणों की सहमति के बाद पीड़ित परिवार को सहायता राशि के रूप में 7.5 लाख रुपए दिए। मृतक जाहिद को धार्मिक तरीके से मिट्टी दी गई।

*ज़ाहिद के परिजनों ने बताया घटनाक्रम*

ग्रामीणों ने बताया कि जाहिद पुत्र रज्जाक पापड़ा निवासी जो करीब 20 दिन पूर्व इल्याश गांव पहाडा थाना सदर जिला अलवर के साथ ट्रक पर गया था। जो ट्रक के द्वारा जयपुर से दूध लेकर जम्मू-कश्मीर के सौपियां गए। चालक और परिचालक दोनों गाड़ी को लेकर जयपुर से जम्मू कश्मीर चले गए जहां सोंपियां में आतंकियों ने इन दोनों को कब्जे में ले लिया और गोली मारकर हत्या कर दी।

आर्थिक तंगी के चलते नहीं हो रही थी बच्चों की पढ़ाई।

ज़ाहिद खान परिवार में अकेला कमाने वाला था। करीब 20 वर्ष से कच्चे मकान में ही निवास कर रहे था करीब 10 साल पूर्व पिता रज्जाक भी दुनिया से अलविदा कह चुका था उसकी आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के कारण बड़ी बेटी 7 वर्षीय अनुष्का तथा 4 साल का लड़का सेफ व छोटी बेटी 2 वर्षीय सना पढ़ाई नही कर सके। जिनका पालन पोषण के लिए ज़ाहिद खान ट्रक सीखने के लिए गया। जहाँ यह घटना घटित हो गई।

No comments:

Post a Comment