भरतपुर में 550 लोगों के ड्राइविंग लाइसेंस हाेंगे रद्द, यातायात पुलिस ने भेजी परिवहन विभाग को सिफारिश - News Desktops

Breaking

Wednesday, September 4, 2019

भरतपुर में 550 लोगों के ड्राइविंग लाइसेंस हाेंगे रद्द, यातायात पुलिस ने भेजी परिवहन विभाग को सिफारिश



भरतपुर। नियमों की अवहेलना करते पाए जाने पर रोजाना औसतन 100 से अधिक वाहन चालकों के खिलाफ जिले की पुलिस द्वारा कार्यवाही की जा रही है, फिर भी सड़क हादसे थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। 
एसपी के निर्देशन में हाल ही में 22 से 30 अगस्त तक जिले में सघन सड़क सुरक्षा अभियान जिले के सभी थानों की पुलिस एवं यातायात शाखा द्वारा चलाया गया। अभियान के 9 दिनों की अवधि में पुलिस ने यातायात नियम तोड़ने वाले 1544 वाहन चालकों के खिलाफ कार्यवाही की। 
जिनमें तेज गति से वाहन चलाते पाए जाने पर 184 वाहन चालकों सहित, लाल बत्ती का उल्लंघन करते पाए जाने पर 28, वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग करते पाए जाने पर 121, शराब पीकर वाहन चलाते पाए जाने पर 83, माल वाहक में यात्रियोें को ले जाते पाए जाने पर 134 तथा अन्य मोटर व्हीकल एक्ट नियमों का उल्लंघन करते पाए जाने पर 994 वाहन चालकों के खिलाफ चालान की कार्यवाही की। 
अभियान के दौरान 550 वाहन चालकों के खिलाफ उनके ड्राइविंग लाइसेंस निरस्तीकरण करने के लिए पुलिस ने परिवहन विभाग के अधिकारियों को सिफारिश की है। 
इसके अलावा अभियान के दौरान पुलिस अधिकारियों द्वारा जिले के 42 माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों में जाकर स्कूली बच्चों को यातायात नियमों के पालन करने के बारे में समझाइश की गई। 
इतना ही नहीं जिला पुलिस और यातायात शाखा द्वारा बीते माह अगस्त में 3 हजार 554 वाहन चालकों के खिलाफ चालान की कार्रवाई की। 

हादसों पर नियंत्रण हो इसलिए करते हैं कार्यवाही: राणा 

इस संबंध में एडिशनल एसपी मुख्यालय डॉ. मूल सिंह राणा का कहना है कि अधिकांश सड़क दुर्घटनाएं यातायात नियमों की वाहन चालकों द्वारा पालना नहीं किए जाने के कारण ही हाेती हैं। इस वर्ष जनवरी से लेकर अगस्त माह तक जिले में 347 सड़क हादसे हुए हैं। जिनमें 210 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, वहीं 225 लोग हादसों में घायल हुए हैं। पुलिस का मूल मकसद हादसों पर नियंत्रण करने के लिए ही नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्यवाही का होता है। ताकि लोग जुर्माना के भय से यातायात नियमों का पालन कर सकें। जिससे सड़क हादसों मे कमी के साथ लोगों के जीवन को बचाया जा सके।

No comments:

Post a Comment