भरतपुर - भाजपा पार्षद की मारपीट के विरोध में, सांसद रंजीता कोली ने डीजीपी को लिखा पत्र - News Desktops

Breaking

Tuesday, August 20, 2019

भरतपुर - भाजपा पार्षद की मारपीट के विरोध में, सांसद रंजीता कोली ने डीजीपी को लिखा पत्र

                    









भरतपुर। जिले के कस्वा नगर में गरीब गाड़िया लुहारों की मदद कर रहे भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के सदस्य व पार्षद वेदप्रकाश पटेल की पिटाई एसएच ओ कैलाश चंद मीणा द्वारा की गई। पार्षद वेदप्रकाश पटेल की पिटाई का विडियो भी खूब वायरल हो रहा है जिसके चलते लोगो में और समस्त भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं में रोष व्याप्त है । 

इसी क्रम में भरतपुर की सांसद रंजीता कोली ने पार्षद वेदप्रकाश पटेल के साथ थानाधिकारी कैलाश मीना द्वारा की गई मारपीट के वायरल वीडियो पर कार्यबाही की मांग की है। 

भरतपुर की सांसद श्रीमती रंजीता कोली ने राज्य के डीजीपी को पत्र लिखा है। 

और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।


मामला ये था 

नगर कस्बे में सीकरी रोड स्थित उपखंड कार्यालय के बाहर सड़क किनारे डेरा जमाए गाडिया लौहारों को सोमवार शाम स्थानीय प्रशासन की ओर से हटाने की कार्रवाई के दौरान विवाद हो गया। गाली-गलौच नहीं करने पर टोकने पर पार्षद के साथ थाना प्रभारी कैलाशचंद मीणा ने बाल पकड़ कर जमकर थप्पड़ जड़ दिए। बाद में पुलिस ने उसे कार्रवाई में व्यवधान पहुंचाने पर शांतिभंग में गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, देर शाम उसकी जमानत हो गई। मामले में पार्षद का कहना है कि वह गाडिया लौहारो से दुव्र्यवहार नहीं करने की कह रहे थे, जिस पर थाना प्रभारी ने कहा कि नेतागिरी कर रहा है पकड़ लो। उन्होंने कहा कि मामले में आगामी कार्रवाई के लिए मंगलवार को समाज व अन्य लोगों की पंचायत कर निर्णय लिया जाएगा।



इससे पहले गाडिया लौहारों ने स्वयं को पुनस्र्थापित करने की मांग को लेकर दिनभर उपखंड अधिकारी कार्यालय के बाहर धरना दिया। उनकी मांग पर नगर पालिका की ओर से कस्बे में अलवर रोड पर भूखंड आवंटित करने का पत्र जारी किया। एसडीएम ने गाडिया लौहारों के साथ हुए समझौते की जानकारी दी। इसके बाद प्रशासन के अधिकारी पुलिस जाब्ते के साथ गाडिया लौहारों के डेरा को मौके से हटाने की कार्रवाई के लिए पहुंच गए। कार्रवाई नगर के एसीजेएम (प्रथम) के आदेश पर की गई थी। कार्रवाई के दौरान वार्ड नम्बर 5 से पार्षद व शंखनाद फाउण्डेशन के संयोजक वेदप्रकाश पटेल वहां पहुंच गए और जाब्ते के दुव्र्यवहार करने को लेकर नाराजगी जताई। पार्षद को मौजूद अधिकारियों ने समझाया लेकिन अडियल रवैये को लेकर थाना प्रभारी मीणा उखड़ गए और पार्षद के बाल पकड़ कर थप्पड़ जड़ दिए। बाद में पार्षद को शांतिभंग में गिरफ्तार कर लिया। पुलिस व प्रशासन ने कार्रवाई कर गाडिय़ा लौहारों के डेरा को हटवा दिया।

गौरतलब रहे कि गाडिया लौहारों को स्थायी आवास दिलाने की मांग को लेकर काफी समय से शंखनाद फाउण्डेशन की ओर से आंदोलन किया जा रहा है। इसको लेकर जिला कलक्टर को भी ज्ञापन भी सौंपे हैं। इसी के तहत सोमवार को उपखंड कार्यालय के बाहर धरना-प्रदर्शन भी किया गया। उधर, पार्षद वेदप्रकाश पटेल ने बताया कि वह गाडिया लौहारों से दुव्र्यवहार नहीं करने के लिए पुलिस को टोका था, जिस पर थाना प्रभारी ने कहा कि ये नेतागिरी कर रहा है। इसको पकड़ लो।

No comments:

Post a Comment