जयपुर - सुने पीड़ित महिला से क्या कारण था जयपुर में सांप्रदायिक दंगे होने का?? धारा 144 लागू - News Desktops

Breaking

Wednesday, August 14, 2019

जयपुर - सुने पीड़ित महिला से क्या कारण था जयपुर में सांप्रदायिक दंगे होने का?? धारा 144 लागू


                              



 यपुर में सोमवार की रात दो समुदाय आमने-सामने भीड़ गए| दोनों तरफ से जमकर ईंट-पत्थर की जंग हुई| सांप्रदायिक बवाल की इस घटना में 9 पुलिसकर्मियों समेत दोनों ही पक्ष के कुल 24 लोगों के घायल होने की खबर है




सोमवार की झड़प के बाद मंगलवार सुबह करीब 11 बजे फिर से झड़पें हुईं। पथराव की खबरें आईं जिसमें 30 वाहन क्षतिग्रस्त हो गए और 10 लोग घायल हो गए।

सोमवार देर शाम सांप्रदायिक अशांति के बाद इंटरनेट सेवाओं को पहले ही निलंबित कर दिया गया था। एक अधिकारी ने कहा कि प्रतिबंध अगले आदेश तक बुधवार को जारी रहने की उम्मीद थी।
मंगलवार को गलता गेट में एक धार्मिक स्थल पर पत्थर फेंके गए। दिन के दौरान शांति बैठकें बुलाई गईंहालांकिऐसे उपाय विफल रहेपुलिस ने कहा कि देर रात फिर से चीजों ने गंभीर मोड़ ले लिया।

राजधानी में सांप्रदायिक बवाल के बाद पूरे इलाके में धारा 144 लगा दी गई है. पुलिस के मुताबिकजयपुर मे गलता गेटरामगंजसुभाष चौकमाणक चौकब्रह्मपुरीकोतवालीसंजय सर्किलनाहरगढ़,शास्त्री नगरभट्टा बस्तीआदर्श नगरमोती डूंगरीलाल कोठीट्रांसपोर्ट नगर और जवाहर नगर में सोमवार रात से धारा 144 लागू कर दी गई है.

बवाल के बाद एहतियातन 10 थाना क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा बुधवार की रात तक के लिए निलंबित कर दी गई है और पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. यह बवाल उस समय भड़काजब एक पक्ष के लोग गाल्टा गेट के समीप दिल्ली हाईवे जाम कर रहे थे.

इसी बीच हरिद्वार से चलने वाली एक बस पर किसी ने पत्थरबाजी कर दी. इस घटना में कुछ बस यात्रियों के चोटिल होने के बाद एक अफवाह उड़ी और दूसरे संप्रदाय के लोग भी सड़क पर उतर आए.

देखते ही देखते दोनों तरफ से पथराव शुरू हो गया. घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस को भी भीड़ ने नहीं बख्शा. पुलिसकर्मियों पर भी हमला किया गया. पुलिस के अनुसार उत्तेजित भीड़ ने लगभग आधा दर्जन कारों के शीशे तोड़ दिएवहीं एक दोपहिया वाहन भी क्षतिग्रस्त हुआ है.

पुलिस के अनुसार तनाव की शुरुआत रविवार को हुई थीजब कथित रूप से एक संप्रदाय की धार्मिक यात्रा में जा रहे यात्रियों के साथ दूसरे धर्म के लोगों ने गाल्टा गेट के समीप गलत व्यवहार किया.
मंगलवार को गलता गेट में एक धार्मिक स्थल पर पत्थर फेंके गए। दिन के दौरान शांति बैठकें बुलाई गईंहालांकिऐसे उपाय विफल रहेपुलिस ने कहा कि देर रात फिर से चीजों ने गंभीर मोड़ ले लिया।

क्या है मामला?


इससे पहले रविवार को अल्पसंख्यक समुदाय के कुछ लोगों द्वारा गलता गेट इलाके में कांवड़ यात्रियों से दुव्यर्वहार की घटना सामने आई थी। इसको लेकर हिंदू समुदाय में नाराजगी थी। सोमवार रात दोनों समुदाय आमने सामने आ गए हालांकि इसका मुख्य कारण अभी तक अज्ञात है। 






No comments:

Post a Comment