कामां- 20 साल पहले गुम हुये बेटे को वापिस लेने पहुंचे असली मां-बाप, बेटे ने साथ जाने से किया मना - News Desktops

Breaking

Tuesday, May 7, 2019

कामां- 20 साल पहले गुम हुये बेटे को वापिस लेने पहुंचे असली मां-बाप, बेटे ने साथ जाने से किया मना



कामां | करीब तेइस वर्ष पहले परिजनों से बिछुड़ कर आया वीरसिंह नाम का बालक गांव सबलाना में सडक के किनारे गुमसुम हालत खड़ा था। जिसकी उम्र जब पांच वर्ष की थी, अब वीर सिंह 28 साल का है। जिसको कामां थाने के सबलाना निवासी शेर मौहम्मद ने उसको शरण देते हुए घर ले गया। बाद में वीरसिंह का नाम बदलकर मौहम्मद हुसैन उर्फ सलीम रख दिया। किसी ग्रामीण द्वारा सूचना देने पर दो दिन पूर्व दिल्ली निवासी मौहम्मद हसन ने कामां के एसीजेएम में प्रार्थना पत्र लगाकर वीर सिंह उर्फ मौहम्मद हुसैन उर्फ सलीम को अपना पुत्र बताया। हसन ने कहा कि यह हमसे तेइस वर्ष पूर्व बिछड़ गया था। जिसे हमें वापिस कराया जाए। जो कि सबलाना निवासी शेर मौहम्मद के घर में रह रहा है।

कोर्ट ने कामां पुलिस को आदेश दिया कि वीर सिंह उर्फ सलीम पेश किया जाए। जिस पर थाने के एसआई सागर मीणा ने एसीजेएम मनोज निमोरिया के समक्ष सर्च वारंट के तहत मोहम्मद हुसैन को पेश किया। जहां वीर सिंह उर्फ मौहम्मद हुसैन उर्फ सलीम से पूछा गया कि ये सामने खड़ा मौहम्मद हसन क्या आपका पिता है। क्या आप इसके साथ जाना चाहते हो। जिस पर वीर सिंह उर्फ मौहम्मद हुसैन उर्फ सलीम ने कहा कि मेरे कोई माता-पिता नही है। मेरे तो माता-पिता सबलाना निवासी शेर मौहम्मद व मां इस्लामी है। मैं इनके अलावा किसी को भी नही जानता। जो भी कुछ है ये ही मेरे है। जिसपर न्यायालय उसकी इच्छा अनुसार शेर मौहम्मद को सौंप दिया।

No comments:

Post a Comment