मंगलकलश एवं वरघोड़ा यात्रा में भगवान महावीर एवं तृतीय तीर्थांकर संभवनाथ को रथ में विराजमान कर हाथी घोड़ों की सवारी के साथ नगर भ्रमण कराया - News Desktops

Breaking

Friday, February 8, 2019

मंगलकलश एवं वरघोड़ा यात्रा में भगवान महावीर एवं तृतीय तीर्थांकर संभवनाथ को रथ में विराजमान कर हाथी घोड़ों की सवारी के साथ नगर भ्रमण कराया


वैर। स्थानीय प्राचीन श्वेताम्बर जैन मंदिर का जैनसमाज द्वारा जीर्णोद्धार कर तृतीय तीर्थांकर भगवान संभवनाथ प्रतिमा का 4 दिवसीय प्रतिष्ठा महोत्सव कार्यक्रम में आज मंगलकलश एवं वरघोड़ा यात्रा में भगवान महावीर एवं तृतीय तीर्थांकर संभवनाथ को रथ में विराजमान कर हाथी घोड़ों की  सवारी के साथ नगर भ्रमण कराया गया।जिसका सर्वसमाज द्वारा जगह-जगह पुष्पवर्षा कर भव्य स्वागत किया गया।

संयोजन समिति के अजीत जैन व कोषाध्यक्ष मुकेशचन्द जैन ने बताया कि  कुंभ स्थापना ,शुभ पूजा एवं  ज्वारा रोपण के बाद शुक्रवार को भव्य वरघोडा कलश यात्रा निकाली गई ,जो कस्बा के मुख्य मार्गो से वाजे गाजे के साथ निकाली गयी।जिसका व्यापार मण्डल सहित सर्वसमाज के लोगों द्वारा मंगल यात्रा  का जगह जगह पर पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया।
 10 फरवरी को जिनालय का उदघाटन विधि विधान से किये जायेगे। जिसके लिये पूरी तैयारी कर ली गई है। अध्यक्ष सुरेश वैद्य एवं मंत्री सतीश जैन ने बताया कि यह मंदिर प्राचीन काल का था जिसका पुनःर्निर्माण कराया गया है। तथा इसमें प्रतिमाओ को विधि विधान से प्रतिष्ठित किया जायेगा। तथा जैन धर्म के मुताबिक विधिविधान से पूजा अर्चना की जायेगी। 

No comments:

Post a Comment