आयुष्मान भारत योजना के तहत कैसे होगा मुफ्त में इलाज - News Desktops

Breaking

Wednesday, September 26, 2018

आयुष्मान भारत योजना के तहत कैसे होगा मुफ्त में इलाज



 भारत सरकार की एक प्रस्तावित योजना,  जिसे 23 सितम्बर 2018 को पूरे भारत मे लागू किया गया था। 2018 के बजट सत्र में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इस योजना की घोषणा की। इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है। इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जायेगा। 10करोड़ बीपीएल धारक परिवार इस योजना का प्रत्यक्ष लाभ उठा सकेगें। एक बार यह बीमा पॉलिसी लेने पर पूरे परिवार के लिए इसका लाभ ले सकते है. इस प्रकार करीब 50 करोड़ लोगों को इसका फायदा मिलेगा| इसके अलावा बाकी बची आबादी को भी इस योजना के अन्तर्गत लाने की योजना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मादी द्वारा सर्व प्रथम इस योजना की शुरुवात रांची शहर से 23 सितम्बर 2018 को की गई

 इस योजना की कुछ मुख्य बिन्दु

प्रश्न - इस योजना के अंतर्गत मैं आता हूं कि नहीं यह मुझे कैसे पता चलेगा?
जवाब- सन 2011 की जनगणना में जो लोग गरीबी रेखा से नीचे के है उनको इस इस योजना का लाभ मिलेगा| इस बात की जानकारी आप अपनी पंचायत में जाकर भी ले सकते हैं. या फिर इसके लिए आपको सबसे पहले वैबसाइट mera.pmjay.gov.in पर जाना होगा| मोबाइल नंबर डालकर OTP Verify करना होगा >फिर आपके राज्य का नाम पूछा जाएगा> इसके बाद मोबाइल नंबर/राशन कार्ड नंबर की मदद से जान सकेंगे कि आपको इस योजना का लाभ मिल रहा है कि नहीं|

प्रश्न मरीज को अस्पताल पहुँचकर क्या करना होगा?
उत्तर - मरीज को अस्पताल में पहुँचकर आरोग्य मित्र से मिलना होगा| वह एएपीएसई आपके ID PROOF मांगेगा| आधार कार्ड या फिर राशन कार्ड या वोटर कार्ड या फिर कोई भी अन्य कार्ड आपको दिखाना होगा| आरोग्य मित्र आपको एक ई-कार्ड देगा| इसमें आपकी फोटो के साथ आपका पता होगा| अगली बार आपको यह प्रक्रिया दोहराने की जरूरत नहीं होगी| बल्कि ई-कार्ड दिखाने से काम हो जाएगा|

प्रश्नक्या हमे अस्पताल जाकर पैसा देना होगा?
उत्तर- आपको इसके लिए कुछ भी नहीं देना है| अगर आपसे कोई पैसा मांगता है तो आप इसकी शिकायत फोन न14555 पर कर सकते है|

प्रश्न इसमे हम कौन सी बीमारियों का इलाज करवा पाएंगे?
जवाब- इस योजना के अंतर्गत उन बीमारियों का इलाज करवा पाएंगे जिन बीमारियों में आपको हॉस्पिटल में भर्ती नहीं होना पड़ता है| अपनी बीमारी के लिए डॉक्टर की सलाह से बाहर से भी दवाइयां ले सकते है| इस योजना का फायदा हॉस्पिटल में भर्ती होने पर ही मिलेगा| इसमें भर्ती के तीन दिन पहले और हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के 15 दिन बाद तक का खर्च मिलेगा|

प्रश्न किस राज्य में कितने कल्याण केंद्र है?
छत्तीसगढ़ में 1000, गुजरात में 1185, राजस्थान में 505, झारखंड में 646, मध्य प्रदेश में 700, महाराष्ट्र में 1450, पंजाब में 800, बिहार में 643, हरियाणा में 255



प्रश्न -क्या आधार कार्ड के बिना मिलेगा योजना का लाभ?
जवाब- अगर कोई व्यक्ति इस योजना का लाभ लेना चाहता है तो उसके लिए यह आवश्यक है की व्यक्ति का स्वयं का पहचान पत्र उसका आधार कार्ड उसके पास हो. इसके अतिरिक्त व्यक्ति का आधार कार्ड उसके परिवार आईडी से भी लिंक होना चाहिये, अगर ऐसा नहीं होता है तो वह व्यक्ति इस सुविधा से वंचित रह जायेगा|


प्रश्न इस योजना के तहत हमे कितनी राशि तक का लाभ मिलेगा|
उत्तर - इस योजना के द्वारा एक परिवार को एक साल में 5 लाख रुपय तक की सहायता दी जाएगी, जिसे जरूरतमंद व्यक्ति विकट परिस्थिति में उपयोग कर पायेगा|जुल्फिकार खान ने भी इस योजना में अपना काफी योगदान दिया है।

No comments:

Post a Comment