expr:class='data:blog.pageType'>

news desk tops

Saturday, September 14, 2019

भिवाड़ी - रात को पारिवारिक झगड़े की सूचना पर पहुँची पुलिस, एक सब इंस्पेक्टर व सिपाही पीटा



भिवाड़ी। पुलिस जिले के अंतर्गत मुंडावर थाना अंतर्गत के गांव जागीवाड़ा में कंट्रोल रूम से मिली झगड़े की सूचना के आधार पर आधी रात को गश्त कर रहे मुंडावर थाना के सब इंस्पेक्टर रामस्वरूप बैरवा मय फोर्स के साथ पहुंचे, जहां उनके साथ कुछ लोगों ने मारपीट कर दी, जिसमें सब इंस्पेक्टर रामस्वरूप बैरवा व कांस्टेबल शिवरतन घायल हो गए, जिनको मुंडावर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद देर रात अलवर को रैफर कर दिया। मिली जानकारी के अनुसार मुंडावर थानाअंतर्गत के गांव जागीवाड़ा में कंट्रोल रूम से पारिवारिक कलह की सूचना मिली थी जिसके आधार पर रात को गस्त कर रहे मुंडावर थाने के रामस्वरूप बैरवा मय फोर्स जागीवाड़ा गांव पहुँच कर देखा तो वहाँ पर पारिवारिक कलह चल रहा था, जिसमें पीहर पक्ष के लोग व ससुराल पक्ष आपस में झगड़ा कर रहे थे, तभी पुलिस ने जब बीच बचाव करने की कोशिश की तो ससुराल पक्ष के लोगों ने पुलिस पर हमला बोल दिया जिसमें मुंडावर थाना के सब इंस्पेक्टर रामस्वरूप बैरवा व कॉन्स्टेबल शिवरतन गंभीर रूप से घायल हो गए। जिसकी सूचना मिलते ही मौके पर ततारपुर सहित अन्य कई थानों व क्यूआरटी टीम जागीवाड़ा गांव पहुंची और दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लाई। जबकि अन्य लोग फरार हो गए। वहीं नीमराना के डीएसपी हरीराम कुमावत ने बताया मामले की जांच की जारी है। पुलिस उन लोगों के खिलाफ राजकार्य में बाधा डालने में मारपीट का मामला दर्ज करेगी। वहीं दोनों घायलों का अलवर के सामान्य चिकित्सालय में इलाज जारी है।

संदिग्ध परिस्थिति में 75 वर्षीय वृद्ध की मौत, पुत्री ने भाई पर लगाया हत्या का आरोप



सैंपऊ। कस्बे के कोली मोहल्ले में उस वक्त हड़कंप मच गया जब 75 वर्षीय वृद्ध का शव घर के अंदर संदिग्ध परिस्थिति में पड़ा हुआ मिला। वृद्ध की मौत की खबर सुनकर पड़ोसी और नाते रिश्तेदार पहुंच गए। प्रकरण में मृतक की पुत्री मीना ने अपने छोटे भाई पर ही पिता की हत्या का आरोप लगाते हुए मुकदमा पंजीकृत कराया है। जांच अधिकारी पुलिस उपाधीक्षक विजय कुमार सिंह ने बताया कि मृतक का शव कब्जे में लेकर राजकीय चिकित्सालय के शव गृह में पोस्टमार्टम के लिए रखवा दिया है ।जहां परिजनों की मौजूदगी में मेडिकल बोर्ड द्वारा पोस्टमार्टम कराया जाएगा। पुलिस ने बताया वृद्ध की मौत हत्या है यह स्वभाविक यह अनुसंधान के बाद ही तय होगा।

Thursday, September 5, 2019

करौली - जिला चिकित्सालय की मातृ-शिशु इकाई में एक प्रसूता ने दिया तीन नवजात को जन्म

करौली। जिला चिकित्सालय की मातृ-शिशु इकाई में दुर्गसी घटा निवासी महिला ने एक साथ 3 बालक बालिकाओं को जन्म दिया है। जो कौतूहल व चर्चा का विषय बना हुआ है। 

मातृ-शिशु इकाई के डॉ दिनेश गुप्ता, डॉ शिव लहरी गुप्ता, लेबर रूम प्रभारी शमा खान एवं रूपाली ने सामान्य प्रसव को सफलतापूर्वक अंजाम दिया है। 
डॉ दिनेश गुप्ता ने बताया कि करौली के दुर्गसी घटा निवासी राजाराम माली की पत्नी कौशल्या को मातृ शिशु इकाई में प्रसव के लिए भर्ती कराया था। 
महिला को डॉ शिवलहरी और लेबर रूम प्रभारी शमा खान व रुपाली के सहयोग से सामान्य प्रसव कराया है। 
महिला ने दो बालक व एक बालिका को एक साथ जन्म दिया। तीनों नवजातों को एसएनसीयू वार्ड में विशेष निगरानी के लिए रखा गया है हालांकि वह पूर्ण स्वस्थ्य। 
प्रसूता भी पूर्ण रूप से स्वस्थ है। एक साथ तीन नवजातों के जन्म से परिवार में खुशी का माहौल है।

Saturday, July 6, 2019

अंतरजातीय विवाह करने पर मोदी सरकार 2 लाख 50 हजार रुपये किसको देती है और कैसे ???





मोदी सरकार ने सामाजिक बुराई को खत्म करने और अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहन देने के लिए एक मुहिम शुरू की है इसके तहत अगर कोई भी लड़का या लड़की दलित से अंतरजातीय विवाह करता है तो मोदी सरकार उस नवदंपति को 2 लाख 50 हजार रुपये देती है.
आपको बता दे यह आर्थिक मदद डॉ. अंबेडकर स्कीम फॉर सोशल इंटीग्रेशन थ्रू इंटरकास्ट मैरिज के तहत दी जाती है. इस योजना की शुरुआत यूपीए सरकार ने साल 2013 में की थी. उस समय मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे. यह योजना आज भी चल रही है. इस योजना का लाभ पाने के लिए कुछ शर्ते और नियमो का पालन करना होता है.
इस मुहीम का मुख्य उद्देश्य जाति व्यवस्था की बुराई के खिलाफ गलत कदम उठाने वाले युवक-युवतियों को जागरूक करने का है


इस आर्थिक मदद के लिए दो तरीके से आवेदन किया जा सकता है


1. नवदंपति अपने क्षेत्र के मौजूदा सांसद या विधायक की सिफारिश के साथ आवेदन को पूरा करके सीधे डॉ अंबेडकर फाउंडेशन को भेज सकते हैं.
2. नवदंपति आवेदन को पूरा भरकर राज्य सरकार या जिला प्रशासन को सौंप सकते हैं. इसके बाद राज्य सरकार या जिला प्रशासन आवेदन को सिफारिश के साथ डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन को भेज देते हैं.

किनको मिलेगा फायदा



1. नवदंपति में से कोई एक दलित समुदाय से होना चाहिए, जबकि दूसरा दलित समुदाय से बाहर का होना चाहिए.
2. शादी को हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत रजिस्टर होना चाहिए. इस संबंध में नवदंपति को एक हलफनामा दाखिल करना होगा.
3. इस स्कीम का फायदा उन्हीं नवदंपति को मिलेगा, जिन्होंने पहली बार शादी की है. दूसरी शादी करने वालों को इसका फायदा नहीं मिलेगा.
4. आवेदन पूरा करके शादी के एक साल के अंदर डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन को भेजना होगा.
5. अगर नवदंपति को राज्य या केंद्र सरकार द्वारा किसी तरह की आर्थिक सहायता पहले मिल चुकी है, तो उसको इस ढाई लाख रुपये की धनराशि में घटा दी जाएगी.

आवेदन के साथ लगाएं ये दस्तावेज

1. नवदंपति में से जो भी दलित यानी अनुसूचित जाति समुदाय से हो, उसका जाति प्रमाण पत्र आवेदन के साथ लगाना होगा.
2. हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत शादी रजिस्टर करने के बाद जारी मैरिज सर्टिफिकेट भी संलग्न करना होगा.
3. आवेदन के साथ कानूनी रूप से विवाहित होने का हलफनामा देना होगा.
4. आवेदन के साथ ऐसा दस्तावेज भी लगाना होगा, जिससे यह साबित हो कि दोनों की यह पहली शादी है.
5. नवविवाहित पति-पत्नी का आय प्रमाण पत्र भी देना होगा.
6. नवदंपति का संयुक्त बैंक खाते की जानकारी देनी होगी.
इसके बाद अगर नवदंपति का आवेदन सही पाया जाता है, तो उनके संयुक्त खाते में डेढ़ लाख रुपये फौरन भेज दिए जाते हैं. इसके अलावा बाकी के एक लाख रुपये को उनके संयुक्त खाते में तीन साल के लिए फिक्स डिपोजिट करा दिया जाता है. तीन साल बाद डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन की सहमति से यह पैसा ब्याज के साथ दंपति को मिल जाता है. इस स्कीम के तहत हर साल 500 दंपति को ही इसका फायदा देने का लक्ष्य रखा गया है.
इसके अलावा अगर जिला प्रशासन या राज्य सरकार ऐसे अंतरजातीय विवाह कार्यक्रमों को आयोजन करते हैं, तो जिला प्रशासन या राज्य सरकार को हर ऐसे विवाह पर 25 हजार रुपये की धनराशि दी जाएगी.

लीग मैच के आखिरी मुकाबले में भारत की श्रीलंका के खिलाफ धमाकेदार जीत





आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 के लीग दौर में भारतीय टीम द्वारा शानदार प्रदर्शन को देख भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली भी आश्चर्य में है उन्होंने कहा की लीग दौर में 7-1 के स्कोर के बारे में मैंने नहीं सोचा था|
भारतीय टीम ने लीग दौर की श्रंखला में सिर्फ इंग्लैंड से हार का सामना करना पड़ा था और न्यूजीलैंड के खिलाफ एक मैच बारिश के कारण धुल गया था उसके अलावा 7 मैचो में जीत बरक़रार रखी|
  शनिवार को आखिरी लीग मैच मुकाबले में भारत ने श्रीलंका को करारी मात देते हुए सेमीफाइनल में जगह बना ली है| भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से हरा दिया| हेडिंग्ले मैदान पर श्रीलंका ने भारत के सामने 265 रनों की चुनौती रखी थी जिसे उसने 43.3 ओवरों में तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया. भारत के लिए लोकेश राहुल ने 118 गेंदों पर 111 रन बनाए. रोहित शर्मा ने 94 गेंदों की पारी में 14 चौके और दो छक्के की मदद से 103 रन बनाए. कप्तान विराट कोहली 34 रनों पर नाबाद रहे
मैच के बाद कोहली ने कहा, 'हम अच्छा क्रिकेट खेलना चाहते थे, लेकिन हमने 7-1 की उम्मीद नहीं की थी. भारत के लिए इस तरह से एक साथ होकर खेलना सम्मान की बात है.
सेमीफाइनल के लिए लगभग सभी चीजें तय हो गई हैं, लेकिन हम एक ही तरह की टीम नहीं बनना चाहते. हमें अगले दिन फिर शुरुआत करनी होगी और शानदार प्रदर्शन करना होगा.'
सेमीफाइनल में भिड़ने वाली टीम को लेकर कोहली ने कहा, 'हमारे लिए विपक्षी टीम मायने नहीं रखती, क्योंकि अगर हम अच्छा नहीं खेलेंगे तो हर कोई हमें हरा सकता है और हम अच्छा खेलेंगे तो हम किसी को भी हरा सकते हैं.'
शनिवार को हेडिंग्ले मैदान पर श्रीलंका ने भारत के सामने 265 रनों की चुनौती रखी थी जिसे उसने 43.3 ओवरों में तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया. भारत के लिए लोकेश राहुल ने 118 गेंदों पर 111 रन बनाए. रोहित शर्मा ने 94 गेंदों की पारी में 14 चौके और दो छक्के की मदद से 103 रन बनाए. कप्तान विराट कोहली 34 रनों पर नाबाद रहे

Friday, June 28, 2019

जयपुर - राजस्थान के कुख्यात डकैत जगन गुर्जर ने किया सरेंडर




जयपुर - चंबल के बीहड में एक बार फिर से सक्रिय हुए कुख्यात डकैत दस्यु जगन गुर्जर ने शुक्रवार सुबह पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। पुलिस के तीन वरिष्ठ अधिकारियों की अगुवाई में पुलिस की विशेष टीम डांग इलाके में सर्च आपरेशन कर रहीं थी पर पिछले 15 दिनों से चंबल के बीहड़ों में डकैत जगन को पकड़ने में नाकाम रही पुलिस जगन को जंगल से लेकर अब धौलपुर पहुंच रही है। 


आपको बता दें कि 40 हजार रुपए का इनामी डकैत जगन के आतंक पर अंकुश लगाने के लिए संसद में भी आवाज उठ चुकी है। बता दें कि जान का खतरा देख इस बार जगन गुर्जर ने पुलिस के आगे तीसरी बार आत्म्समर्पण किया है। 

 बुधवार रात जगन ने मीडिया संस्थानों में फोन कर बताया कि गुरुवार सुबह वो सरेंडर करने जा रहा है। यह जगन की सोची समझी योजना थी जिसके तहत उसने खुद को सुरक्षित रखते हुए पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया है।

Thursday, June 20, 2019

योग दिवस पर एक ऐसे योग गुरु की कहानी जो हमेशा सेक्स स्कैंडल में फंसे रहे




पूरी दुनिया में आज 21 जून को योग दिवस मनाया जा रहा है. आज के समय में कुछ ऐसे योग गुरु भी हैं, जिनका नाम अक्सर विवादों में रहता है . ऐसा ही एक नाम है बिक्रम चौधरी का, जो पहले सेक्स स्कैंडल में फंसे और बाद में अपनी पत्नी से तलाक भी सुर्खियों में आ गया.


साल 2016 में बिक्रम चौधरी का उनकी पत्नी राजश्री से तलाक हो गया. राजश्री को सेटलमेंट के तौर पर बिक्रम से ब्रेवरी हिल्स और लॉस एंजिलिस वाले मकान के साथ ही फेरारी, मर्सिडीज 550 और बेन्टले कारें मिली थीं


कोलकाता में जन्मे बिक्रम चौधरी ने करीब 44 साल पहले जब भारत छोड़कर अमेरिका में अपना कदम रखा, तब उसने ख्वाबों में भी नहीं सोचा था कि एक रोज वो अपने योगासन की बदौलत पूरी दुनिया में राज करने लगेगा. अपनी कोशिश और किस्मत की बदौलत उसने जो कुछ हासिल किया, उसकी दूसरी मिसाल कोई हो ही नहीं सकती. लेकिन अपनी गलत आदतों और कई लड़कियों से रेप के आरोप ने उसे विवादों में ला दिया.

विदेशियों के लिए योग एक नई चीज थी. बिक्रम ने 40 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर लोगों को योग सीखा कर उन्हें चुस्त-दुरुस्त रखने का जो अनोखा नुस्खा ढूंढ़ निकाला, उसने देखते ही देखते चौधरी को शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचा दिया. दुनिया भर के सेलिब्रिटीज देखते ही देखते उसके दीवाने हो गए. हिंदुस्तान का सालों पुराना हठ योग अब 'हॉट योगा' में तब्दील हो चुका था.


चौधरी ने हॉट योगा के 26 आसनों की पेटेंट हासिल कर रखा है

इससे पहले साल 2015 में बिक्रम पर एक अमेरिकी कोर्ट में वकालत करने वाली एडवोकेट मीनाक्षी के यौन शोषण करने का मामला भी सामने आया था. इस जुर्म की सजा के तौर पर बिक्रम चौधरी पर करीब 6 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था.


चार साल की उम्र से योग की शुरुआत करने वाले बिक्रम का जन्म कोलकाता में हुआ था. देखते ही देखते उन्हें योग की लगन कुछ ऐसी लगी कि हर रोज कम से कम 6 घंटे तक योगाभ्यास करने लगे. इस कड़ी मेहनत का नतीजा ये हुआ कि वह तमाम योगसनों में बेहद माहिर हो गए. महज 13 साल की उम्र में नेशनल इंडिया योगा चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम कर लिया.
कामयाबी मिलने के बाद बिक्रम चौधरी पर यौन उत्पीड़न के मामलों की झड़ी सी लग गई. पांच लड़कियों ने उस पर रेप और छेड़खानी के इल्जाम लगाए थे. इसके दो साल बाद फिर ठीक एक वैसा ही इल्जाम लगा. इस बार उससे 46 साल छोटी एक स्टूडेंट ने आरोप लगाया कि 2010 में उसके साथ रेप हुआ. मालिश के बहाने ज्यादती की गई. इस मामले में लड़की ने अमेरिकी कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराया.


चौधरी ने मौके का फायदा उठाया और हॉट योगा के 26 आसनों की पेटेंट हासिल कर लिया. धीरे-धीरे उसने हर वो चीज हासिल की, जिसकी ख्वाहिश किसी आम इंसान को हो सकती है. फिर चाहे वो आलीशान बंगला हो, महंगी गाड़ी या फिर करोड़ों की दौलत. उसके पास सब कुछ था, लेकिन शीश महल पर तब दरार पड़ गई, जब एक स्टूडेंट ने रेप का इल्जाम लगा कर दुनिया में सनसनी फैला दी.
इन प्रकरणों के चलते बिक्रम की लोकप्रियता कभी खत्म नहीं हुई और आज भी बरकरार है  ब्रिटेन का फुटबॉल स्टार डेविड बैकहम हो, मशहूर टेनिस प्लेयर एंडी मरे, पॉप सिंगर मैडोना, लेडी गागा, डांसर माइकल जैक्सन उनके फैन रहे हैं.